ताज़ा ख़बर

Share Market में निवेश करने के तरीके

Share Market में निवेश करने के तरीके
किस शेयर में इन्वेस्ट करना चाहिए

लाभ कमाने के लिए शेयर मार्केट (Share Market) के किस शेयर में इन्वेस्ट करना चाहिए?

शेयर मार्केट (Share Market) के किस कंपनी में निवेश करना चाहिए : जब हम निवेश करते हैं या व्यापार करते हैं, तो हमारा उद्देश्य पैसा कमाना होता है। लेकिन शेयर बाजार में, हमें हमेशा यह परिभाषित करना होता है कि हम कितना रिटर्न कमाना चाहते हैं। हमारा निवेश हमारी इच्छा के अनुसार होता है, लेकिन हमे निवेश किया हुआ पैसा खोने के लिए भी तैयार होना चाहिए!

किस शेयर में इन्वेस्ट करना चाहिए

किस शेयर में इन्वेस्ट करना चाहिए

स्टॉक मार्केट (Share Market) में निवेश करने से पहले किसी को क्या सावधानी रखनी चाहिए?

  • ट्रेडिंग में अपने अनुभव के लिए मैंने हमेशा देखा है कि जब लोग तेजी के दिन स्टॉक खरीदते हैं तो वे उच्च जोखिम के लिए कम रिटर्न कमाते हैं। जब भी आप किसी स्टॉक को खरीदने का ऑर्डर देते हैं तो उसे कम से कम 1% के अंतराल के साथ छोटे लॉट में रखें ताकि आप कीमत का औसत निकाल सकें।
  • शेयर बाजार में निवेश करने का सबसे अच्छा समय सुबह 9:30 बजे से पहले है क्योंकि जब ज्यादातर लोग बाजार को आंकने की कोशिश कर रहे हैं तो आप पहले से ही बाजार का हिस्सा होंगे और अंत में या तो राजा बन जाएंगे या आपको कुछ पूंजी का नुकसान हो सकता है।
  • अगर आप किसी शेयर को लंबी Share Market में निवेश करने के तरीके अवधि के लिए खरीदना चाह रहे हैं तो सही समय वह होगा जब बाजार लगातार 2 से 3 दिनों के लिए नकारात्मक हो उस समय आपको सबसे सस्ते दाम पर स्टॉक मिलेगा।
  • यदि आप लंबी अवधि के निवेशक हैं, तो अच्छी कंपनियों के शेयर सर्वोत्तम कीमतों पर उपलब्ध हैं। लेकिन आपको धैर्य की जरूरत है और इस समय अपनी पूंजी का 50% निवेश करें और बाकी निवेश की प्रतीक्षा करें।

शेयर कब खरीदना चाहिए?

  • यह बाजार में शेयर खरीदने का सबसे अच्छा समय माना जाता है जब बाजार में लगातार वृद्धि हो रही है।
  • जब सरकार की नीतियों का झुकाव कारपोरेट क्षेत्र के विकास की ओर हो।
  • जब अच्छा प्रदर्शन करने वाली कंपनी के शेयर की कीमत में अचानक गिरावट आती है, तो इसे शेयर खरीदने का सबसे अच्छा समय माना जा सकता है। क्योंकि संभावना है तो वही शेयर फिर से अपने मूल्य में वृद्धि दिखाएगा।
  • जब कोई प्रतिष्ठित कंपनी दिवालिया होने के दरवाजे पर खड़ी हो, और अगर कंपनी लाभदायक कंपनी में विलय करने जा रही है तो उस कंपनी का हिस्सा खरीदने का सबसे अच्छा समय है।
  • जब एक अनुशासित व्यक्ति घाटे में चल रही कंपनी का सीईओ या एमडी या चेयरमैन बनने जा रहा है, तो अब बाजार में निवेश करने का समय है, यह निश्चित रूप से कई गुना रिटर्न देगा।

कमाई के दो दर्शन का अध्ययन

लंबी अवधि के लिए निवेश: निवेश अवधि के रूप में 3-4 साल से 7 साल तक होना चाहिए। धन सृजन निवेश का उद्देश्य है, हम इस उद्देश्य के लिए मौलिक विश्लेषण का उपयोग करते हैं।

विभिन्न शैलियाँ :

  • मूल्य निवेश,
  • विकास निवेश,
  • उपज निवेश,
  • संरचित निवेश,
  • वैकल्पिक निवेश आदि

शॉर्ट टर्म : कुछ मिनटों से लेकर कुछ महीनों तक ट्रेडिंग को शॉर्ट टर्म ट्रेडिंग कहते है। आय सृजन व्यापार का उद्देश्य है, हम इस उद्देश्य के लिए तकनीकी विश्लेषण का उपयोग करते हैं।

विभिन्न शैलियाँ :

  • डे ट्रेडिंग,
  • बीटीएसटी,
  • स्विंग ट्रेड,
  • पोजिशनल ट्रेडिंग,
  • और स्केलिंग।

2022 में 5 से 10 साल के लिए निवेश करने के लिए 10 स्टॉक कौन से हैं ?

यदि आप ज्यादा रिस्क लेना नहीं चाहते है, तो आपको उन कंपनियों में निवेश करना चाहिए जो मौलिक रूप से मजबूत हैं। कंपनी का प्रबंधन शीर्ष श्रेणी का होना चाहिए और कंपनी का लाभ सालाना आधार पर बढ़ रहा है, अगर कंपनी को लाभ हो रहा है तो स्टॉक ऊपर की ओर जायेगा और आपको भी लाभ मिलेगा।

यदि आप शेयर बाजार के एक्सपर्ट है, तो मेरा मानना है कि आपको उभरती हुई कंपनी में जाना चाहिए। लेकिन हमेशा याद रखें कि उभरती हुई कंपनी अधिक जोखिम वाली कंपनी होती है, लेकिन अच्छा रिटर्न भी देती है।

शेयर Share Market में निवेश करने के तरीके मार्केट(Share Market) में सबसे अच्छी कंपनी कौन सी है?

  • यहाँ शेयर मार्केट (Share Market) के कुछ लार्ज कैप कंपनी हैं जो मुझे व्यक्तिगत रूप से पसंद हैं :
  1. Hdfc bank (एचडीएफसी बैंक)
  2. Pidilite industries (पिडिलाइट उद्योग)
  3. Reliance industries (रिलायंस इंडस्ट्रीज)
  4. Tcs (टीसीएस)
  5. Infosys ( इंफोसिस)
  6. Asian paints ( एशियन पेंट्स)
  7. Bajaj finance ( बजाज फाइनेंस)
  8. Havells (हैवेल्स)
  9. Polycab india (पॉलीकैब इंडिया)
  10. Titan (टाइटन)
  • शेयर मार्केट (Share Market) के कुछ उभरती हुई कंपनी
  1. Iex (आईईएक्स)
  2. Berger paints (बर्जर पेंट)
  3. easy trip planner (ईजी ट्रिप प्लानर)
  4. lux industries (लक्स उद्योग)
  5. burger king (बर्गर किंग)
  6. happiest mind (हैप्पिएस्ट माइंड)
  7. info edge ( जानकारी बढ़त)
  8. orient electronic (ओरिएंट इलेक्ट्रॉनिक)
  9. Sbi cards (एसबीआई कार्ड)
  10. Deepak Nitrite (दीपक नाइट्राइट)

अंत में : नौसिखिया के लिए शेयर बाजार सीखना सबसे अच्छा निवेश है ! थोड़े पैसे से अभ्यास करें और लंबे समय तक बहुत अच्छा पैसा कमाना सीखें!

इन्वेस्ट करने में मेरी सहायता करें

अपने पैसे का निवेश करना चाहते हैं, लेकिन सुनिश्चित नहीं है कि कहां? आपकी बेहतर निवेश करने में मदद करने के लिए और अपने पैसे का अधिकतम लाभ उठाने के बारे में सूचित निर्णय लेने के लिए हमारे पास अनेक Share Market में निवेश करने के तरीके विचार हैं।

स्टॉक मार्केट निवेश के लिए मोतीलाल ओसवाल क्यों चुनें

  • इंडस्ट्री लीडर
  • धन सृजन के 30 वर्ष
  • 10 लाख + ग्राहकों
  • 70k cr + भंडार संपत्ति
  • 2,200 + लोकेशन्स

मोतीलाल ओसवाल के साथ डीमैट खाता अभी खोलें!

Loading.

Portfolio Investments

निवेश करने के लिए तैयार पोर्टफोलियो

स्टॉक मार्केट में भाग लेना चाहते हैं, लेकिन अपने निवेश पोर्टफोलियो का प्रबंधन करने के लिए बिल्कुल समय नहीं है? अपनी आवश्यकताओं के लिए पूर्व-पैक इक्विटी उत्पादों की एक विविध रेंज के साथ एक सलाहकार चुनें।

  • निष्पक्ष ए.आई-संचालित निवेश सलाह
  • आपके निवेश की आवश्यकताओं के लिए अनुकूलित पोर्टफोलियो
  • पोर्टफोलियो वास्तविक समय में फिर से संतुलित
  • निष्पादित करने के लिए विवेक की शक्ति

जैसे आप चाहते हैं वैसे निवेश करें

  • एस.आई.पी (सिस्टेमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान)कम से कम 10, 000 रुपए तक
  • केवल 2.5 लाख रूपए का एकमुश्त निवेश

मेरे पोर्टफोलियो में सुधार करें

क्या आपका निवेश पोर्टफोलियो जोखिम और प्रतिलाभ के सही मिश्रण के साथ गुणकारी है? हमारे विकसित बहुभाषी पोर्टफोलियो पुनर्गठन उपकरण को आपका मार्गदर्शन करने दें।

हमारा पोर्टफोलियो पुनर्गठन टूल कैसे कार्य करता है

अपने मौजूदा पोर्टफोलियो को अपलोड करें

अपने मौजूदा पोर्टफोलियो को अपलोड करने से शुरूआत करें

हमारी समीक्षा और व्यक्तिगत अंतर्दृष्टि प्राप्त करें

हम आपके पोर्टफोलियो की समीक्षा करेंगे और व्यक्तिगत अंतर्दृष्टि साझा करेंगे

अपने पोर्टफोलियो पर हमारी अनुशंसाएं प्राप्त करें

हम आपको सलाह देंगे कि आप अपने पोर्टफोलियो को कैसे बदल सकते हैं और सुधार सकते हैं

कहां निवेश करें

अभी भी सोच रहे हैं कि कहाँ निवेश करें?

प्रतिलाभ , कमाई, या अधिक - चाहे कुछ भी आपकी निवेश की आवश्यकता हो, हमारे ए.आई- संचालित उपकरण आपको समझते हैं और आपके लिए सही पोर्टफ़ोलियो की सिफारिश करते हैं। केवल एक निवेश की आवश्यकता चुनें, कुछ सवालों के जवाब दें और आप शुरू करने के लिए तैयार हैं।

शेयरों में भी SIP के जरिये कर सकते हैं आप निवेश, जानें तरीका

आमतौर पर छोटे निवेश सिस्टमेटिक इनवेस्टमेंट प्लान (एसआईपी) के जरिये म्यूचुअल फंड में निवेश करते हैं। लेकिन, क्या आपको पता है कि आप एसआईपी के जरिये सीधे शेयरों में भी निवेश कर सकते हैं। यह सुविधा आपको.

शेयरों में भी SIP के जरिये कर सकते हैं आप निवेश, जानें तरीका

आमतौर पर छोटे निवेश सिस्टमेटिक इनवेस्टमेंट प्लान (एसआईपी) के जरिये म्यूचुअल फंड में निवेश करते हैं। लेकिन, क्या आपको पता है कि Share Market में निवेश करने के तरीके आप एसआईपी के जरिये सीधे शेयरों में भी निवेश कर सकते हैं। यह सुविधा आपको शेयर ब्रोकर उपलब्ध करते हैं।

हालांकि, शेयरों में एसआईपी के जरिये निवेश करने के लिए आपके पास सबसे पहले डीमैट खता होना जरूरी है। डीमैट खाता खोलने की सुविधा ब्रोकर उपलब्‍ध कराते हैं। डीमैट खाता खुलने के बाद आप अपने मोबाइल एप के जरिये ब्रोकर के प्‍लेटफॉर्म का इस्‍तेमाल करते हुए शेयर बाजार से शेयरों की खरीद सकते हैं। इसके लिए आपका बैंक खाता डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट से जुड़ा होना चाहिए। इसके बाद आप महीने में एक तय राशि एसआईपी के जरिये सीधे शेयर खरीदने में लगा सकते हैं।

शेयरों में एसआईपी कैसे शुरू करें

शेयरों में एसआईपी शुरू करने के लिए Share Market में निवेश करने के तरीके आपको निवेश की रकम, शुरुआत करने की तारीख, अंतिम तारीख, ट्रिगर डेट इत्‍यादि के बारे में बताना पड़ता है। ट्रिगर डेट वह तारीख है जिस दिन हर एक किस्‍त के लिए बकेट में निवेश किया जाएगा। इसी दिन उन शेयरों के लिए एक अलग ऑर्डर जेनरेट होगा जिन्‍हें आपने चुना है। ये ऑर्डर शेयर ब्रोकर के ऑर्डर मैचिंग Share Market में निवेश करने के तरीके सिस्‍टम के अनुसार एग्‍जीक्‍यूट होते हैं। आप एसआईपी के जरिये निवेश की अवधि दैनिक, साप्‍ताहिक, पाक्षिक या मासिक चुन सकते हैं। शेयर में एसआईपी शुरू करने पर आपके पास विकल्‍प होता है कि आप किसी खास शेयर को नहीं चुनें। आप बता सकते हैं कि हर एक शेयर में
मजबूत कंपनियों के शेयरों में करें निवेश

म्यूचुअल फंड में जब आप एसआईपी के जरिये निवेश करते हैं तो उसका प्रबंधन म्यूचुअल फंड मैनेजर करता है। लेकिन स्टॉक एसआईपी जिसे 'ई-सिप' कहा जता है उसमें निवेश का प्रबंधन खुद करना होता है या फिर आपका ब्रोकर इसे संभालता है। पको ब्रोकर को यह बताना पड़ता है कि आप कितने समय में कितना शेयर खरीदना चाहते हैं। ई-सिप खरीदते समय हमेशा उन शेयरों में निवेश करना चाहिए जिनके कारोबार और वित्तीय स्थिति मजबूत हों। ई-सिप का फायदा यह है कि आपके निवेश को डाइवर्सिफिकेशन का लाभ मिलता है। यानी आप अपना इनवेस्टमेंट अलग-अलग शेयरों में करते हैं। यह ध्यान रखना चाहिए कि ई-सिप के जरिये जब निवेश करें तो अलग-अलग शेयरों में करें।

बड़े वित्तीय लक्ष्य हासिल करना आसान Share Market में निवेश करने के तरीके

ई-सिप में फायदा यह है कि आप एक छोटी निवेश राशि से निवेश कर लंबी अवधि में बड़ा निवेश करते हैं। आप इसके जरिये बड़ा वित्तीय लक्ष्य आसानी से हासिल कर लेते हैं। निवेश की राशि कम होती है इसलिए जोखिम भी कम होता है। इसमें लिक्वडिटी काफी होती है और अचानक पैसे की जरूरत पड़ने पर आप अपनी रकम निकाल सकते हैं। दरअसल ई-सिप के जरिये में निवेश पर आपको हाई रिटर्न का फायदा मिलता है। म्यूचुअल फंड निवेश में कई तरह के चार्ज, फंड मैनेजर का खर्च आदि कट कर रिटर्न मिलता है। लेकिन इसमें इस तरह का खर्च नहीं है। इस वजह से इनमें रिटर्न का ज्यादा हिस्सा आपके हाथ आता है। जो निवेशक कम पैसे से धीरे-धीरे शेयर में निवेश करना चाहते हैं उनके लिए यह ई-सिप के जरिये शेयरों में निवेश काफी अच्छा विकल्प है

इन बातों का रखें ध्‍यान

शेयरों में एसआईपी शुरू करने से पहले यह जरूरत पता कर लें कि स्‍टॉक एसआईपी रीक्‍वेस्‍ट क्रिएट करने के लिए ब्रोकर ब्रोकरेज जैसे अन्‍य रेगुलर शुल्क के अलावा कितना चार्ज करते हैं। आप किसी भी समय स्‍टॉक एसआईपी इंस्‍ट्रक्‍शन को कैंसिल या बदल सकते हैं। यह अगली ट्रिगर डेट से प्रभावी हो जाएगी।

म्यूच्यूअल फंड में निवेश के नुकसान – Disadvantages of Investing in Mutual Funds

म्यूच्यूअल फंड में निवेश के नुकसान , Disadvantages of Investing in Mutual Funds – म्यूच्यूअल फंड के क्या क्या नुकसान हो सकते हैं? आपने म्यूच्यूअल फंड के नाम के बारे में सुना ही होगा। आपको इसके फायदों के बारे में पता ही होगा कि यह कैसे पैसे दोगुना करता है। लेकिन इनके कुछ नुकसान भी Share Market में निवेश करने के तरीके है। जिनकी चर्चा हम करने वाले हैं।

आज हम इस के बारे में जानेंगे? यदि आप इस विषय मे पूर्ण जानकारी चाहते हैं तो आप बिल्कुल सही वेबसाइट पर आए हैं।

आज हम इस के बारे मे पूरे विस्तार से चर्चा करने वाले है। यहाँ इस वेबसाइट पर आपको यथासंभव जानकारी मिल जाएगी। और हमें पूर्ण उम्मीद है कि इस लेख को पढ़ने के बाद आपके मन की सारी जिज्ञासाएँ शांत होने वाली है।

म्यूच्यूअल फंड में निवेश के नुकसान - Disadvantages of Investing in Mutual Funds

म्यूचुअल फंड में जानकर करें निवेश :- Investing in Mutual Funds

अब हम आपको म्यूचुअल फंड के नुकसान के बारे में पूरी जानकारी देंगे जिससे आप सभी चीजों को अच्छी तरह समझ परख कर ही म्युचुअल फंड में इन्वेस्ट करें तथा जिससे आपको किसी भी जोखिम का सामना ना करना पड़ सके ।

आज के इस आर्टिकल में जानेंगे कि म्यूच्यूअल फंड के कोई नुकसान है भी या नहीं?हमने म्यूचुअल फंड के सभी फायदों के बारे में अच्छे तरीके से तो जान लिया है कि कैसे आप mutual fund के माध्यम से अपने पैसे को दोगुना कर सकते है तथा बहुत अच्छे पैसे कमा सकते हैं।

म्यूच्यूअल फंड में निवेश के नुकसान :- Disadvantages of Investing in Mutual Funds

जिस प्रकार म्यूचुअल फंड में निवेश के लाभ है की इसके माध्यम से हमारे पैसे दुगने होते हैं उसी प्रकार इसके कई नुकसान भी हदों के निम्नलिखित हैं:-

1.रिटर्न की गारंटी नहीं:-

बाजार में स्थिति ऑप्शन होते हैं कि फंड रिटर्न हो सकता है लेकिन वास्तविकता में ऐसा नहीं होता है। क्योंकि म्यूच्यूअल फंड का फायदा सीधे तरीके से स्टॉक मार्केट के उतार-चढ़ाव से जुड़ा हुआ होता है। तथा स्टॉक मार्केट में हमेशा Share Market में निवेश करने के तरीके रिस्क ही बना रहता है। जिसके कारण म्यूचुअल फंड के फायदे में भी उतार-चढ़ाव बना रहता है।

हम बहुत ही कम टाइम में म्यूचुअल फंड से बहुत अधिक मुनाफा प्राप्त कर लेंगे तो ये हमारी गलतफहमी होती है। क्योंकि बहुत कम समय के अंतर्गत म्यूचुअल फंड के अंतर्गत हमें बहुत अधिक मुनाफा नहीं हो सकता।

2.म्यूच्यूअल फंड की लागत:-

म्यूच्यूअल फंड को संभालने हेतु आपके द्वारा जो निवेश किया गया फंड है उसमे से कुछ पैसा expense ratio के रूप में फंड हाउस को दे दिया जाता है। यदि हम कम अवधि हेतु निवेश करते हैं तो ये जो खर्च है वो हमारा कम लगेगा लेकिन वही जब हम लंबे समय हेतु निवेश करते हैं तो ये बहुत ज्यादा हो जाता है।

3.एग्जिट लोड (Exit Load) लेना:-

यदि हम म्यूचुअल फंड के निवेश को 1 वर्ष के अंतर्गत ही निकाल कर ले आते हैं तो हमें उस पर 1% Exit Load देना पड़ेगा। ये NAV का बहुत ही छोटा सा हिस्सा होता है। Exit Load को लगाने का एक ही मकसद है कि निवेशक बाहर न जा पाए क्योकिं कई लोग जो होते है वो स्कीम्स मे ही एंट्री तथा एग्जिट करते रहते है। यह उन लोगो के लिए बेकार होता है Share Market में निवेश करने के तरीके जो कि म्यूच्यूअल फंड में से अपना पैसा जल्दी से निकालना चाहते है।

4.लॉक इन अवधि:-

लॉक इन अवधि का मतलब यह होता है कि हमें हमारा निवेश किया गया पैसा एक निश्चित समय हेतु जमा करना होगा तथा उस दौरान हम उस जमा पैसे को निकाल नहीं सकते है। लेकिन अगर हम उस पैसे को निकालते हैं तो हमें अपने निवेश पर नुकसान उठाना पड़ सकता है।

5.म्यूच्यूअल फंड रिटर्न पर टैक्स:-

म्यूच्यूअल फंड स्कीम पर भी हमकों टैक्स देना पड़ता है जिससे कि हमारे मुनाफे का कुछ प्रतिशत कम हो ही जाता है। यदि हम 12 महीने से कम समय के लिए इक्विटी में निवेश करते है तो हमें short term capital gain के रूप में 15% टैक्स देना होगा।

6.नियंत्रण की कमी:-

जैसा की हम सभी जानते है कि म्यूचुअल फंड में हम जो पैसा निवेश करते है उस पर हमारा कोई नियंत्रण नहीं रह पाता है, क्योंकि उसे फंड मैनेजर के द्वारा नियंत्रित किया जाता है। यह मेनेजर अपनी इच्छानुसार हमारे निवेश को स्टॉक मार्केट या अन्य बाजार में लगाता रहता है।

7.डायरेक्ट निवेश से हानि :-

निवेश करने से पहले आवश्यक जानकारियों के बारे में जान लेना चाहिए क्योंकि अगर हमे इन बातों की जानकारी नहीं होगी तो डायरेक्ट निवेश करने में हमारे द्वारा गलतियों की संभावना रहती है। अधिक रिटर्न पाने के लिए डायरेक्ट निवेश बेहतर विकल्प होता है लेकिन बिना समझ के ये करना बेवकूफी भरा कदम हो सकता है।

8.स्कीम चुनने में गलती:-

हमारे द्वारा म्यूचुअल फंड में एक सही स्कीम का चयन करना आसान बात नहीं होती है। अधिकतर निवेशक भविष्य के प्रदर्शन को ध्यान में न रखकर पूर्व प्रदर्शन को देखकर ही स्कीम का चुनाव कर लेते हैं।

इस तरह से वह संभावित रिटर्न पाने से वंचित रह जाते हैं जिसे हम किसी दूसरे स्कीम में निवेश करके प्राप्त कर सकते थे इसलिए इस बात का अच्छे तरीके से ख्याल रखना चाहिये कि हम बेहतरीन रिटर्न वाले म्यूच्यूअल फण्ड मे निवेश करे जिससे कि हमे उसका फायदा मिल सके।

9.विविधीकरण:-

म्यूचुअल फंड में विविधीकरण से फायदा भी हो सकता है परंतु कई बार इससे हमें नुकसान भी हो सकता है।

जब किसी स्टॉक का दाम दोगुनी रकम हो जाता है इसके पश्चात् भी म्यूच्यूअल फंड में निवेश की कीमत दोगुनी नहीं हो पाती है, क्योंकि हमारा निवेश फंड मैनेजर के द्वारा अलग-अलग शेयर में किया जाता रहता है।

इन्हें भी पढ़ें :

निष्कर्ष:-

आज के इस आर्टिकल में हमने जाना कि जिस प्रकार म्युचुअल फंड के फायदे होते हैं उसी प्रकार उसके अपने अपने अन्य प्रकार के नुकसान भी होते हैं इसलिए म्यूचुअल फंड में निवेश करने से पहले सभी आवश्यक शर्तों के बारे में जान लेना चाहिए।

मुझे पूर्ण उम्मीद है कि इन सभी पॉइंट्स को पढ़ने के बाद आपके मन की सारी आशंका दूर हो गयी होगी। यदि आपको इसके बारे मे और भी अधिक जानकारी चाहिए तो आप हमें कॉमेंट के माध्यम से बता सकते हैं।

शेयर बाजार से जुड़ी जानकारी प्राप्त करने के लिए हमें फॉलो करना ना भूले।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल ( FAQs )

1. म्यूचुअल फंड में नुकसान कब होता है?

Ans. जब हम बिना ध्यान दिए उस में निवेश करते हैं तथा आवश्यक शर्तों के बारे में नहीं पड़ते हैं।

2. क्या म्यूचुअल फंड के अपने फायदे हैं?

Ans. म्यूच्यूअल फंड के अपने फायदे भी हैं और नुकसान भी है।

3. क्या म्यूच्यूअल फंड मैं पैसे लगाने से पैसे डूब जाते हैं?

Ans. जी नहीं, पैसे डूबते नहीं है। लेकिन हा आपके युनिट के दाम में उतार चढाव के कारण आपके निवेश की रकम का मुल्य कम भी हो सकता है।

4. म्यूच्यूअल फंड से पैसे कब निकाल सकते हैं?

Ans. जब हमें लगे कि यह अच्छा प्रदर्शन नहीं कर रही है तो हम म्यूच्यूअल फंड से पैसे निकाल सकते हैं।

रेटिंग: 4.70
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 536
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *