शीर्ष युक्तियाँ

अनुबंध मात्रा

अनुबंध मात्रा
उन्होंने कहा, ‘मैंने अमेरिकी प्रतिनिधियों को संदेश भेजा है कि हम अपने सैनिकों के साथ खड़े हैं. हम किसी भी बाहरी जांच में सहयोग नहीं करेंगे. हम इजरायल के आंतरिक मामलों में किसी को भी हस्तक्षेप करने की अनुमति नहीं देंगे.’

सारण में हथियार के साथ तीन अपराधी गिरफ्तार, 2 देशी कट्टा एवं कारतूस बरामद

डाइट में अखरोट और बादाम को शामिल करने से मिलते हैं ये स्वास्थ्य लाभ

अपने स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए अक्सर कई आदतों और कार्यों की आवश्यकता होती है। सक्रिय रहना, नियमित वेलनेस चेकअप कराते रहना, और अपनी मानसिक और शारीरिक ज़रूरतों का ख्याल रखना, ये सभी एक स्वस्थ शरीर और दिमाग में योगदान करते हैं।

हालाँकि, आपका आहार भी एक महत्वपूर्ण पहलू है कि आप हर दिन कैसा महसूस करते हैं। अपने आहार में कुछ खाद्य पदार्थों को शामिल करना आपके स्वास्थ्य में योगदान कर सकता है, खासकर जब वे संतुलित आहार का हिस्सा हों। बादाम और अखरोट आपके स्वास्थ्य के लिए आश्चर्यजनक रूप से फायदेमंद हैं। इस लेख के माध्यम से हम अखरोट और बादाम खाने के फायदों के बारे में बात करने जा रहे हैं।

डाइट में अखरोट और बादाम को शामिल करने से मिलते हैं ये स्वास्थ्य लाभ - Benefits Of Adding Walnuts and Almonds To Your Daily Diet In Hindi

अखरोट (Walnut)

अखरोट अविश्वसनीय रूप से पौष्टिक होते हैं, क्योंकि वे मिनरल, विटामिन और फाइबर से भरे होते हैं। वे प्रोटीन और स्वस्थ वसा का भी एक अच्छा स्रोत हैं, जो आपको लंबे समय तक पूर्ण रखने और आपके कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करने से जुड़े हैं। सभी प्रकार के मेवों में अखरोट में उच्चतम स्तर का एंटीऑक्सीडेंट होता है। इसका श्रेय मेलाटोनिन, पौधों के यौगिकों और विटामिन ई को दिया जाता है जो अखरोट और इसकी पपड़ीदार त्वचा में मौजूद होते हैं। हर दिन मुट्ठी भर अखरोट खाने से आपका खराब कोलेस्ट्रॉल स्तर कम हो सकता है, जिसे LDL या कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन के रूप में जाना जाता है।

इज़रायल ने अल जज़ीरा की पत्रकार की मौत की जांच के अमेरिकी क़दम को ‘बड़ी ग़लती’ बताया

जानी-मानी अमेरिकी-फलस्तीनी पत्रकार शिरीन अबु अकलेह की मौत इस साल मई में वेस्ट बैंक के जेनिन शहर में इज़रायल डिफेंस फोर्सेस की छापेमारी के दौरान हुई गोलीबारी में हो गई थी. अमेरिका के फैसले को लेकर इज़रायल ने कहा है कि वह जांच में सहयोग नहीं करेगा. The post इज़रायल ने अल जज़ीरा की पत्रकार की मौत की जांच के अमेरिकी क़दम को ‘बड़ी ग़लती’ बताया appeared first on The Wire - अनुबंध मात्रा Hindi.

जानी-मानी अमेरिकी-फलस्तीनी पत्रकार शिरीन अबु अकलेह की मौत इस साल मई में वेस्ट बैंक के जेनिन शहर में इज़रायल डिफेंस फोर्सेस की छापेमारी के दौरान हुई गोलीबारी में हो गई थी. अमेरिका के फैसले को लेकर इज़रायल ने कहा है कि वह जांच में सहयोग नहीं करेगा.

मई 2022 में उत्तरी वेस्ट बैंक के जेनिन कस्बे में एक शरणार्थी शिविर पर इज़रायली अनुबंध मात्रा सेना की कार्रवाई के दौरान हुई गोलीबारी में अल-जज़ीरा की पत्रकार शिरीन अबू अकलेह की मौत हो गई थी. (फोटो: रॉयटर्स)

यरुशलम: इजरायल ने सोमवार को पुष्टि की कि अमेरिका के न्याय विभाग ने अल जजीरा की पत्रकार शिरीन अबु अकलेह की मौत मामले की जांच शुरू कर दी है.

अकलेह एक जानी-मानी अमेरिकी-फिलस्तीनी पत्रकार थीं. वह इस साल मई में वेस्ट बैंक के जेनिन शहर में इजरायल डिफेंस फोर्सेस (आईडीएफ) की छापेमारी के दौरान हुई गोलीबारी में मारी गई थीं. 51 वर्षीय पत्रकार जेनिन शरणार्थी शिविर पर एक इजरायली सेना की छापेमारी की रिपोर्टिंग के लिए मौजूद थीं. इस घटना में एक अन्य फलस्तीनी पत्रकार अली अल-समौदी घायल हो गए थे.

लोगों का निजी डेटा इस्तेमाल करना कंपनियों को पड़ेगा भारी, लगेगा 500 करोड़ तक का जुर्माना

बिजनेस डेस्कः केंद्र सरकार ने शुक्रवार को डिजिटल पर्सनल डेटा प्रोटेक्शन बिल का मसौदा जारी कर दिया है। इसके तहत सरकार एक Data Protection बोर्ड बनाएगी। इसके अलावा ड्राफ्ट में अनुबंध मात्रा जानकारी मिली है कि Penalty की राशि को बढ़ाकर 500 करोड़ रुपए कर दिया गया है। इस नए बिल के तहत, डेटा का गलत इस्तेमाल होने पर भारी जुर्माना लगेगा। सरकार ने ड्राफ्ट में पेनल्टी की मात्रा भी बढ़ा दी है। जुर्माने की राशि प्रभावित यूजर्स की संख्या के आधार पर तय होगी। बिल में दिए गए नियमों के तहत, कंपनियां जुर्माने के खिलाफ कोर्ट में अपील कर सकती हैं। कंपनियों को सरकार से मंजूर देशों में डेटा रखना होगा। इसके कानून बन जाने के बाद, कंपनियां चीन में डेटा नहीं रख सकेंगी।

संसद के अगले सत्र में पेश हो सकता है बिल

सरकार ड्राफ्ट जारी करके अब सभी पक्षों की राय लेगी। 17 दिसंबर तक बिल के ड्राफ्ट पर राय भेजी जा सकती है। आईटी मंत्रालय की वेबसाइट पर बिल के ड्राफ्ट को अपलोड किया गया है। इस ड्राफ्ट को संसद के अगले सत्र में पेश किया जा सकता है। सरकार का मकसद इसके जरिए व्यक्ति के निजी डेटा की सुरक्षा करना, भारत के बाहर डेटा ट्रांसफर करने पर नजर रखना और किसी तरह के डेटा से जुड़ा उल्लंघन होने पर जुर्माने का प्रावधान करना है। इससे पहले सरकार ने पर्सनल डेटा प्रोटक्शन बिल वापस लिया था। केंद्रीय आईटी मंत्री ने सितंबर में कहा था कि सरकार अगले कुछ दिनों में डेटा संरक्षण विधेयक का एक नया मसौदा पेश करेगी।

सरकार यूरोपियन यूनियन की तर्ज पर डेटा की सुरक्षा को लेकर यह नया कानून लाएगी। ग्राहकों के निजी डेटा का गलत इस्तेमाल को लेकर सरकार गंभीर है। इस कानून के आने के बाद ग्राहकों की इजाजत के अनुबंध मात्रा अनुबंध मात्रा बिना डेटा का इस्तेमाल करने वाली कंपनियों को भारी कीमत चुकानी पड़ेगी।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

बाइडन की पोती नाओमी बाइडन की हुई शादी

बाइडन की पोती नाओमी बाइडन की हुई शादी

Vastu Tips: घर में रखी है ये चीजें तो अभी निकाल दें बाहर नहीं तो हो जाएंगे कंगाल

Vastu Tips: घर में रखी है ये चीजें तो अभी निकाल दें बाहर नहीं तो हो जाएंगे कंगाल

Utpanna Ekadashi: आज के दिन भूलकर भी न करें ये काम, भगवान विष्णु हो सकते हैं नाराज

Utpanna Ekadashi: आज के दिन भूलकर भी न करें ये काम, भगवान विष्णु हो सकते हैं नाराज

यूपी में अब 5 मिनट में होगा ‘ई रेंट एग्रीमेंट’, योगी सरकार ने किरायेदारों को दी बड़ी राहत

यूपी में अब 5 मिनट में होगा ‘ई रेंट एग्रीमेंट’, योगी सरकार ने किरायेदारों को दी बड़ी राहत

उत्तर प्रदेश में अब आम नागरिकों और व्यापारियों को मकान, दुकान, गोदाम जैसी जगह किराए पर लेने के लिए कहीं भटकना पड़ेगा। योगी सरकार इनकी सुविधा के लिए ‘ई रेंट एग्रीमेंट’ के जरिए ऑनलाइन लीज डीड की शुरुआत कर रही है। इससे अब डीड राइटर की आवश्यक्ता नहीं रह जाएगी।

किराएदार, सीधे मकान या बिल्डिंग के मालिक के साथ ऑनलाइन अनुबंध कर सकेंगे। इससे आम नागरिकों समेत व्यापारियों को राहत मिलेगी। उन्हें मौजूदा जटिल प्रक्रिया से नहीं गुजरना होगा, बल्कि ऑनलाइन महज 5 मिनट में वो कांट्रैक्ट लेटर हासिल करने में सक्षम होंगे।

तथ्यों का आकलन किए बिना अवैध खनन पर सनसनीखेज़ बयान देने से बचे ईडी: हेमंत सोरेन

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से ईडी ने कथित अवैध खनन मामले के संबंध में बृस्पतिवार को साढ़े नौ घंटे से अधिक समय तक पूछताछ की. सोरेन ने एजेंसी से ‘किसी छिपे हुए एजेंडे या मक़सद’ के बिना निष्पक्ष जांच करने का अनुरोध किया है. उन्होंने कहा कि भाजपा के इशारे पर उन्हें फंसाने के लिए झूठे आरोप लगाए हैं. The post तथ्यों का आकलन किए बिना अवैध खनन पर सनसनीखेज़ अनुबंध मात्रा अनुबंध मात्रा अनुबंध मात्रा बयान देने से बचे ईडी: हेमंत सोरेन appeared first on The Wire - Hindi.

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से ईडी ने कथित अवैध खनन मामले के संबंध में बृस्पतिवार को साढ़े नौ घंटे से अधिक समय तक पूछताछ की. सोरेन ने एजेंसी से ‘किसी छिपे हुए एजेंडे या मक़सद’ के बिना निष्पक्ष जांच करने का अनुरोध किया है. उन्होंने कहा कि भाजपा के इशारे पर उन्हें फंसाने के लिए झूठे आरोप लगाए हैं.

रांची में 17 नवंबर 2022 को कथित अवैध खनन से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले में पूछताछ के लिए ईडी कार्यालय रवाना होने से पहले मीडिया से रूबरू झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन. (फोटो: पीटीआई)

रांची: झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने बृहस्पतिवार को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) से अवैध खनन पर तथ्यों और आंकड़ों का पता लगाए बिना सनसनीखेज बयान देने से बचने का आग्रह किया है.

ईडी ने सोरेन से नौ घंटे से अधिक समय तक पूछताछ की

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से ईडी ने कथित अवैध खनन मामले के संबंध में बृस्पतिवार को 9.5 घंटे से अधिक समय तक पूछताछ की.

सोरेन दोपहर के करीब केंद्रीय जांच एजेंसी के रांची कार्यालय में पहुंचे थे और रात करीब 9:40 बजे पर वहां से निकले. उनकी पत्नी कल्पना सोरेन रात करीब नौ बजे अनुबंध मात्रा एजेंसी कार्यालय के बाहर पहुंचीं. बाद में मुख्यमंत्री जब बाहर आए तो अपनी पत्नी के साथ सीधे मुख्यमंत्री आवास गए.

इससे पहले सुबह रांची में ईडी के कार्यालय रवाना होने से पहले सोरेन ने कहा था कि खनन पट्टे संबंधी मामले में उनके खिलाफ लगाए गए आरोप निराधार हैं.

मुख्यमंत्री ने संवाददाता सम्मेलन में आरोप लगाया कि वह विपक्ष की साजिश का शिकार हुए हैं. उन्होंने कहा, ‘एजेंसी को मामले की विस्तृत जांच के बाद ही आरोप लगाना चाहिए.’

सोरेन ने कहा, ‘अगर हम खानों और खनिजों से सालाना राजस्व की गणना करें, तो यह 1000 करोड़ रुपये तक नहीं पहुंचेगा. मैं ईडी कार्यालय जा रहा हूं और यह देखना चाहता हूं कि वे उस आंकड़े पर कैसे पहुंचे.’

पूछताछ के विरोध में झामुमो का प्रदर्शन

ईडी से पूछताछ के बीच मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के साथ एकजुटता दिखाने के लिए उनकी पार्टी झारखंड मुक्ति मोर्चा के हजारों कार्यकर्ता रांची में एकत्रित हुए.

झामुमो के समर्थक अपने हाथों में बैनर लिए हुए थे जिस पर लिखा था, ‘ईडी, सीबीआई का दुरुपयोग बंद करो’ और ‘हेमंत सोरेन जिंदाबाद’.

पार्टी कार्यकर्ता रांची के मोराबादी मैदान में इकट्ठा हुए और मुख्यमंत्री आवास की ओर मार्च किया. झामुमो कार्यकर्ता भारतीय जनता पार्टी और केंद्रीय एजेंसियों के खिलाफ नारेबाजी कर रहे थे.

प्रदेश के गढ़वा से यहां आए सुकुमार मुंडा ने कहा कि केंद्रीय एजेंसियों के माध्यम से हेमंत सोरेन सरकार को विपक्षी दल परेशान कर रहा है और हम यहां अपने मुख्यमंत्री का समर्थन करने आए हैं. पार्टी के अन्य कार्यकर्ताओं ने भी सोरेन के समर्थन में अपना रोष प्रकट किया.

रेटिंग: 4.57
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 243
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *